Thursday, August 30, 2018

Krishna janmashtami (date time muharat )

कृष्ण जन्माष्टमी date और time -

कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्रीकृष्ण का जन्मदिन है इसी दिन ही भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. लोग इस साल भी उलझन में हैं कि Krishna janmashtami को किस दिन मनाएं इस साल कृष्ण जन्माष्टमी दो दिन था। 2 सितंबर और 3 सितंबर को और कहीं पर लोग 2 तारीख को मनाया गया और कहीं पर 3 तारीख को मनाया गया  krishna janmashtami का muharat 2 सितंबर मध्य रात्रि 11.57 से 12.48 तक शुभ मुहूर्त था। इसके अलावा 3 सितंबर को रात्रि 8.47 मिनट तक था। 
Krishna Janmashtami
KRISHNA

जन्माष्टमी का महत्त्व –


हमारे भारत देश में हिन्दुओं के त्योहारों में कृष्ण जन्माष्टमी का विशेष महत्त्व है शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है की इस दिन श्री हरि विष्णु भगवान आठवां अवतार श्री कृष्ण के रूप में जन्म लिया था 

इस त्यौहार को छोटे-छोटे गावों से लेकर बड़े-बड़े शहरों में धूम धाम से मनाया जाता है साथ ही बच्चे लोग को कृष्ण रूप में सजाया जाता है 
और दही हांड़ी प्रतियोगिता रखा जाता जिसमे इनाम के रूप में पैसा दिया जाता है इस त्यौहार को बच्चे,जवान और बूढ़े सभी मनाते हैं.और यह त्यौहार सभी के लिए मनोरंजन भरा होता है .

कृष्ण भगवान का उपदेश -

  • जैसे मनुष्य अपने पुराने वस्त्रों को उतार कर नये वस्त्र धारण करते हैं ठीक उसी प्रकार आत्मा मृत्यु के बाद अपने पुराने शरीर को छोड़ कर नये शरीर में प्रवेश करती है .
  • आत्मा न ही कभी जन्म लेती है और ना ही कभी नष्ट होती है .
  • शांति से दुखों का अंत हो जाता है और शांत मनुष्य की बुध्धि स्थिर होकर परमात्मा से युक्त हो जाती है .
  • क्रोध से भ्रम पैदा होता है भ्रम से बुध्धि व्यग्र होती है,जब बुध्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाती है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है 
  • फल की अभिलाषा छोड़कर,कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है .
  • मन अशांत है और इसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है .
  • जो हुआ वो अच्छा हुआ, जो हो रहा है वह अच्छा हो रहा है,जो होगा वह भी अच्छा होगा .

0 comments:

Post a Comment

मेरे वेबसाइट में आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् आपको यह पोस्ट पसंद आया तो जरुर कमेन्ट करें .(आपका किया हुआ कमेंट वेबसाइट में दिखने में समय लग सकता है)